पटवारियों की सरकार से वार्ता विफल, मांग नहीं हुई मंजूर

शुक्रवार से काम बंद हड़ताल, अटकेगी किसानों की मुआवजा राशि
। मप्र पटवारी संघ के आहवान पर जिले के पटवारी लगातार अपनी मांगों को लेकर आंदोलन करने पर उतारू हैं, इसी कड़ी में मंगलवार से जिलेभर के पटवारियों ने काली पट्टी बांधकर 17 से 19 नवंबर तक सांकेतिक हड़ताल पर चल रहे है, किंतु उनकी मांगों की सुनवाई नहीं होने पर अब पटवारियों ने 20 नवंबर से बस्ता जमा कर कलम बंद हड़ताल पर चले जाने का एलान किया है।

जिला पटवारी संघ की ओर से पटवारियों ने स्थानीय तहसील कार्यालय परिसर के बाहर काली पट्टी बांधकर सांकेतिक रूप से विरोध जताया गया है। भोपाल महारैली के बाद सरकार से वार्ता विफल होने पर पटवारियों ने निर्णय लिया है कि तहसील, जिला एवं प्रदेष स्तर पर 20 नवंबर षुक्रवार से अनिष्चित कालीन हड़ताल कर सरकारी कामकाज नहीं करेंगे।

एक ओर जहां पटवारी वेतन विसंगति मामले में हड़ताल कर रहे है, वहीं राजस्व अधिकारी संघ के आहवान पर प्रदेषभर के तहलसीदार एवं नायब तहसीलदारों के संघ ने भी छिंदवाड़ा तहसीलदार के मामले में दर्ज एफआईआर के संबंध में भी अनिष्चित कालीन हड़ताल की तैयारी की है। ऐसे में सरकारी कामकाज प्रभावित होना लाजिमी है।

हड़ताल से किसानों को होगी मुसीबत

जिलेभर के सभी तहसीलों के हल्का पटवारियों के हड़ताल पर चले जाने से किसानों की मुसीबतें जहां बढ़ेंगी वहीं उन्हें मुआवजा राषि नहीं मिल पाएगी। किसानों को मुआवजा राषि वितरित करने का पटवारी ही एकमात्र माध्यम है। पटवारियों के हड़ताल पर जाने से हजारों किसानों की मुआवजा राषि अटक जाएगी। तहसील के सभी हल्का पटवारियों ने हड़ताल पर जाने की पूरी तैयारी कर ली है, जबकि पटवारियों को किसानों के बैंक खाते संकलित कर बैंकों में सूची देना है और सूची के आधार पर ही बैंक खातों में मुआवजा राषि पहुंचेगी। मुआवजें के साथ किसानों की जमीनों की खसरा, खतौनी और नक्षों आदि नकलें एवं अन्य जरूरी दस्तावेज संबंधी काम भी ठप हो जाएंगे।

एक नजर…मांगों को लेकर पटवारी आंदोलन

पटवारी अपनी पेय स्केल 2100 से बड़ाकर 2800 रूपए किए जाने की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चौहान ने वर्ष-2007 में सार्वजनिक मंच से पेय स्केल बड़ाने का एलान किया था, जिस पर आज तक अमल नहीं हो सका है, जबकि मप्र पटवारी संघ के आहवान पर पटवारियों ने 14 अक्टूबर को तहसील में ज्ञापन सौंपे थे और 19 अक्टूबर को अतिरिक्त हल्कों का प्रभार छोड़कर मूल पदस्थापना हल्का का काम कर रहे थे। 16 नवंबर को भोपाल में महारैली के बाद पटवारी 17 से 19 नवंबर तक काली पट्टी बांधकर विरोध जता रहे हैं। अब 20 नवंबर से अनिष्चित कालीन काम बंद हड़ताल षुरू करने जा रहे है। पटवारियों के हड़ताल पर जाने से समस्या तो आना ही है।

कर्मचारी संघ ने मांगों को लेकर एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

मप्र राज्य कर्मचारी संघ ब्यावरा द्वारा प्रांतीय आहवान पर कर्मचारियों की 20 सूत्रीय मांगों को लेकर मंगलवार को मुख्यमंत्री षिवराज सिंह चौहान के नाम एसडीएम अंजली षाह को ज्ञापन सौंपा, जिसमें वेतनमान बढ़ाने, अन्य राज्यों के समान वेतन देने, नियमितीकरण, अनुकंपा अनुदान, वृत्ति कर से मुक्ति, लिपिकों को समान वेतन देने, पदोन्नती का समय कम करने सहित विभिन्न मांगों का उल्लेख करते हुए सीएम से त्वरित निर्णय लेने की मांग की। ज्ञापन संघ के अध्यक्ष दुर्गाप्रसाद सोनी, सचिव जगन्नाथसिंह लोधी के अलावा अन्य कर्मचारी नेता मौजूद थे।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s