केन्द्रीय गृह मंत्री ने सम-विषम कार योजना का समर्थन किया

श्री राजनाथ सिंह ने वृद्धों, निशक्तजनों, महिलाओं और निर्धनों के लिए योजना को लागू करते समय उचित ध्यान और संरक्षण रखने के लिए कहा

दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को नई दिल्ली में केन्द्रीय गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह से मुलाकात की। बैठक के दौरान उन्होंने दिल्ली में वैकल्पिक दिनों में सम और विषम संख्या वाले वाहनों को चलाने के प्रस्ताव पर विचार विमर्श किया।

बैठक के दौरान गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने न सिर्फ दिल्ली बल्कि संपूर्ण राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण के बढ़ते स्तर पर चिंता व्यक्त की। उन्होंने वृद्धों, बच्चों और अन्य लोगों के प्रति चिंता जाहिर करते हुए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण का स्तर कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि प्रदूषण की सबसे अधिक मार निर्धनों पर पड़ती है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार प्रस्तावित योजना के क्रियान्वयन में सहयोग करेगी और इसके लिए दिल्ली पुलिस को बेहतर तरीके से लागू करने के लिए कहा जाएगा। गृह मंत्री ने दिल्ली के मुख्यमंत्री को योजना को अंतिम रूप देते समय निम्नलिखित बातों को ध्यान में रखने की राय दी।

(1) निशक्तजनों के लिए वाहन।

(2) आपातस्थिति को संभालने वाले वाहनों को आपातकालीन वाहन के रूप में निर्धारित करना/ या एम्बुलेंसों की संख्या बढ़ाना।

(3) अकेले वाहन चलाने वाली कामकाजी महिलाओं द्वारा प्रयोग होने वाले वाहन।

(4) आर्थिक रूप से कम सक्षम लोगों द्वारा प्रयोग होने वाले दो पहिया वाहन, जो कि प्रभावी सार्वजनिक परिवहन तक आसान पहुंच न होने वाले क्षेत्रों में रहते हों। गृह मंत्री ने दिल्ली के मुख्यमंत्री को याद दिलाया कि दिल्ली में पंजीकृत कुल वाहनों की संख्या 88 लाख में से 57 लाख (65 प्रतिशत) दो पहिया वाहन हैं।

(5) सार्वजनिक परिवहन की स्थिति को सुधारना जिससे वर्तमान में कार में सफर करने वाले आधे लोगों को नियमित आधार पर परिवहन सुविधा प्रदान करने की व्यवस्था।

(6) दो या अधिक वाहन रखने वाले धनी लोगों द्वारा योजना के दुरूपयोग की संभावना पर रोक लगाना, जिससे केवल एक वाहन रखने वाले लोगों को परेशानी न हो।

(7) नजदीकी शहरों जैसे चंडीगढ़, अम्बाला, रोहतक, अलवर, रेवाड़ी आदि शहरों से आने वाले लोगों के संबंध में स्पष्ट नीति।

(8) राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के अन्य शहरों के साथ नीति को लागू करने के लिए समन्वय ताकि इसका अधिक लाभ उठाया जा सके।

(9) योजना के प्रभावी निगरानी के लिए तकनीकी समर्थन के रूप में बड़ी संख्या में दिल्ली सरकार द्वारा सीसीटीवी लगाने की व्यवस्था करने की आवश्यकता।

गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को वाहनों के अतिरिक्त प्रदूषण के अन्य स्रोतों विशेष तौर पर औद्योगिक और व्यावसायिक इकाईयों, प्रदूषण नियमों का पालन न करने वाली इकाईयों, पत्तियों को जलाने आदि जैसे मुद्दों पर भी ध्यान देने की सलाह दी।

गृह मंत्री ने बैठक के दौरान विचार व्यक्त किया कि दिल्ली सरकार को वाहनों के संबंध में दीर्घकालीन समाधान ढूंढने की आवश्यकता है। उदाहरण के लिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली सरकार केवल सीएनजी/हाइब्रिड वाहनों को अगले 3 से 5 वर्षों के लिए क्षेत्र में पंजीकृत कर गैर सीएनजी वाहनों को हटाने, एक बार गैर-सीएनजी, गैर हाइब्रिड वाहनों के हटने के बाद हाइब्रिड वाहनों से अधिक कर सीएनजी वाहनों पर लगाने की योजना का अध्ययन कर सकती है। गृह मंत्री ने कहा कि ऐसे और अधिक वैकल्पिक तरीकों के क्रियान्वयन और उनमें बदलावों जिसमें गैर-पेट्रोल, गैर-डीजल गाड़ियों की प्रतियोगात्मक उपलब्धता और पेट्रोल डीजल पम्पों को चरणबद्ध रूप से सीएनजी पम्पों में बदलने का व्यवहार्यता अध्ययन कर सकती है।

गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ऐसी सभी योजनाओं को अंतिम रूप बड़े स्तर पर लोगों से विचार विमर्श के बाद दिया जाना चाहिए। इससे सभी पक्षों का रूख जानने के साथ-साथ लागू किए जाने के बाद ऐसी योजनाओं को लोगों का अच्छा समर्थन मिलेगा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s