DDCA मामला: अमित शाह ने कीर्ति आजाद को PC न करने की दी हिदायत

नयी दिल्‍ली : डीडीसीए में भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बात करने के लिए बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने शुक्रवार दोपहर कीर्ति आजाद को तलब किया. सूत्रों के अनुसार अमित शाह ने आजाद को 20 दिसंबर को DDCA मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस न करने की हिदायत दी.
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने डीडीसीए में कथित भ्रष्टाचार को लेकर अरुण जेटली को अकसर निशाना बनाने वाले पार्टी सांसद कीर्ति आजाद को बुलाया. पार्टी चाहती है कि आजाद इस समय जेटली के खिलाफ अपने आरोपों को न उठाएं जब वित्त मंत्री आम आदमी पार्टी के निशाने पर हैं.
हालांकि आजाद रविवार को इस मुद्दे पर संवाददाता सम्मेलन करने के अपने फैसले पर डटे हुए हैं. उन्होंने कहा, ‘‘(शाह के साथ) यह अच्छी मुलाकात थी. मैं रविवार को संवाददाता सम्मेलन करुंगा. ‘ वैसे इस संबंध में कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है कि दोनों नेताओं के बीच क्या बातचीत हुई लेकिन पार्टी सूत्रों ने कहा कि शाह ने आजाद को संयम बरतने की सलाह दी और कहा कि विपक्षी दलों ने भाजपा पर हमला करने के लिए इन आरोपों का इस्तेमाल किया है. कल भाजपा महासचिव रामलाल ने भी इसी मुद्दे पर कीर्ति आजाद को बुलाया था.
समझा जाता है कि भाजपा ने कीर्ति आजाद से कहा कि ये वर्ष 2013 के पुराने आरोप हैं जब जेटली डीडीसीए के प्रमुख थे और कांग्रेस केंद्र एवं दिल्ली में सत्ता में थी लेकिन आरोपों से कुछ निकला नहीं. एक पार्टी नेता ने कहा, ‘‘अब जब भाजपा केंद्र की सत्ता में है तो कांग्रेस और आप जेटली और भाजपा को घेरने के लिए उन्हीं आरोपों का इस्तेमाल कर रही हैं.’
रामलाल के साथ बातचीत के बाद भी आजाद के तेवर नरम नहीं पड़े और उन्‍होंने डीडीसीए मामले को लेकर रविवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करने का एलान किया और कई अहम खुलासे करने की घोषणा की थी. कीर्ति आजाद के बागी तेवर से भाजपा के अंदर भूचाल आ गया. इधर कीर्ति आजाद को अपने ही पार्टी के सांसद शत्रुघ्‍न सिन्‍हा का साथ मिल गया है. ‘शत्रु’ ने आजाद का साथ देते हुए कहा, डीडीसीए मामले पर कीर्ति आजाद के आरोपों की जांच होनी चाहिए. ज्ञात हो शत्रुघ्‍न सिन्‍हा भाजपा के बागी नेताओं में शामिल हैं.
अपने उपर लग रहे आरोपों पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कल प्रेस के सामने जवाब दिया. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने अपने ऊपर लगे रहे आरोपों पर सफाई देते हुए कहा, आज तक मेरे सार्वजनिक जीवन में मुझ पर एक अंगुली भी नहीं उठी. जिस स्टेडियम को छोटा बनना था उसे दिल्ली की आवश्यकता को देखते हुए बनाया गया. दिल्ली में गैरसरकारी संसाधनों से बना एक मात्र बड़ा एक मात्र स्टेडियम यही है.
डीडीसीए विवाद पर अरविंद केजरीवाल पर पलटवार करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने उन पर ‘‘झूठा प्रचार’ करने का आरोप लगाया और कहा कि ऐसा लगता है कि वह झूठ और बदनामी में भरोसा करते हैं और उन्माद की हदें छूने वाली भाषा बोलते हैं.
आप का जेटली पर फिर आरोप
आज एक बार फिर आम आदमी पार्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर वित्तमंत्री अरुण जेटली पर निशाना साधा. पार्टी के सदस्य आशुतोष और संजय सिंह ने संवाददाताओं के सामने कुछ तथ्य रखे और वित्तमंत्री से पांच सवाल किये हैं. आशुतोष ने जेटली पर तीखा हमला करते हुए उन्हें ‘ मास्टर ऑफ हाफ ट्रूथ एंड हैंडसम लाय’ बताया.
आशुतोष ने अरुण जेटली के ब्लॉग का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने लिखा है कि आज तक उनपर कोई व्यक्तिगत आरोप नहीं लगा है, जबकि यह सरासर गलत है. उन्होंने भाजपा सांसद कीर्ति आजाद के पत्र का जिक्र करते हुए बताया कि उन्होंने 13-09-2015 को जेटली को पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने उल्लेख किया था कि डीडीसीए में जो कॉरपोरेट बॉक्स बने हैं, उन्हें उन कंपनियों को क्यों दिया गया जो उनके करीब थे.

आशुतोष ने वित्तमंत्री से पूछा है कि क्या यह व्यक्तिगत आरोप नहीं है. उन्होंने वित्तमंत्री से पांच सवाल पूछे हैं और उन्होंने यह भी कहा कि यह सारे सवाल तथ्यात्मक हैं, कोई भी सवाल आधारहीन नहीं है, इसलिए वित्तमंत्री को इनका जवाब देना चाहिए.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s