आम जागरूक दल का गठन लखनऊ में

sal 001

लखनऊ । समाज में व्याप्त भरस्टाचार के विरुद्ध , गरीबी ,बेरोजगारी ,भय ,गुंडागर्दी, लूट, आतंकवाद ,लचर कानून व्यवस्ता से तंग आकर उमेश शुक्ल राष्ट्रीय अध्यक्ष ने अपने सहयोगी राजेश मिश्रा युवा अध्यक्ष के सहयोग से कठिन परिश्रम से सभी जनता से जुडी समस्यायों से मुक्ति पाने के लिए नए राजनैतिक दल का गठन किया है जिसका नाम है आम जागरूक दल एवं केंद्रीय कार्यालय c 108 डिफेन्स कॉलोनी नयी दिल्ली है एवं पत्राचार का पता 1543 शास्त्री नगर सुल्तान पर है

Advertisements

डीएम का बंद मिला नंबर तो बजा दी मुख्यमंत्री की घंटी, और फिर…

विकास भवन के बाहर पिछले कई दिनों से बीमार एक विकलांग की दयनीय दशा देखकर लोगों ने सीनियर अफसरों को फोन मिलाया, लेकिन कोई रिस्पांस न देखकर सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय का नम्बर डायल कर दिया। फिर क्या था, वहां से यहां की घंटी बजते ही प्रशासन हरकत में आ गया और विकलांग को नाजुक हालत में जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया।

दरअसल शहर के स्पोट्र्स स्टेडियम में 17 दिसम्बर को विकलांग जनों के लिए कैम्प लगा था, जिसमें बड़ी संख्या में ट्राईसाइकिल, बैसाखी सहित कई दूसरी चीजें बांटी गई थीं। उस कैम्प की खबर पाकर जिले के बेंहदर ब्लॉक के महमूदपुर-लालता निवासी विकलांग अधेड़ प्रेमचंद पुत्र सुक्खा नई ट्राई साइकिल की चाहत में अपनी पुरानी ट्राईसाइकिल से यहां आ गया।

नई ट्राई साइकिल के लिए उसने विकास भवन में सम्बंधित महकमे में गुहार लगाई, लेकिन उसके पास पहले से ट्राई साइकिल होने की बात कह कर उसे टरका दिया गया। उदास मन से वहां से निकल कर प्रेमचंद्र वापस घर न जाकर कलेक्ट्रेट कैम्पस में विकास भवन के ही बाहर मैदान में रहने लगा। अपनी पुरानी ट्राई साइकिल को ही किसी तरह ढंककर वह सर्दी से बचने की जुगत करता रहा।

इसी बीच रविवार को किसी की उस पर निगाह पड़ गई। उसकी दयनीय दशा को देखकर पहले तो डीएम के सीयूजी नम्बर पर डायल किया गया, लेकिन वह बंद मिला। फिर सीडीओ को फोन कर पूरी बात बताई गई। बताया जा रहा है कि तब भी कोई बात नहीं बनी तो सीधे मुख्यमंत्री कार्यालय का नम्बर डायल कर पूरी स्थिति बताई गई।

बताया जा रहा है कि वहां से फौरन इस प्रकरण को देखने के लिए फोन आया तो प्रशासनिक अमला सक्रिय हुआ। डीएम की गैर मौजूदगी में जिले का प्रभार देख रहे सीडीओ ने सिटी मजिस्ट्रेट को फोन कर मामले को देखने को कहा। उसके बाद शहर कोतवाली पुलिस की मदद से विकलांग को देर शाम जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। उसके लिए ट्राईसाइकिल की भी व्यवस्था की जा रही है।

राम मंदिर बनाने के लिए राजस्थान से अयोध्या पहुंचे 15 टन पत्थर

विहिप के प्रस्तावित माडल के अनुरुप राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों की तराशी को लेकर स्थापित रामजन्मभूमि कार्यशाला का सन्नाटा जल्द ही टूट जाएगा। यहां एक बार फिर छेनी हथौड़ी की ठक ठक गूंजेगी। इस कार्यशाला में रविवार को राजस्थान के भरतपुर से करीब 15 टन पत्थरों की पहली खेप पहुंच गई।

विहिप मीडिया के अनुसार अभी करीब 75 हजार घनफुट पत्थर और आएंगे। यह पत्थर दानदाताओं की ओर से रामजन्मभूमि न्यास को दान किया गया है। इसकी प्रेरणा विहिप के पूर्व सुप्रीमो अशोक सिंहल ने अपने जीवन के अंतिम क्षणों में दी थी।

रामसेवकपुरम स्थित कार्यशाला में पत्थरों की पहली खेप पहुंचने पर रामजन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने वैदिक मंत्रोच्चर के बीच शिला पूजन किया। इस मौके पर उन्होंने विश्वास जताया कि जल्द ही मामले का हल हो जाएगा और मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होगा।

उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा कि मामला भले सुप्रीम कोर्ट में है लेकिन कोर्ट भी जनभावनाओं का अनादर नहीं करती है। उन्होंने कहा कि हम कोर्ट का सम्मान करते हैं और यह विश्वास है कि निर्णय हिन्दू समाज के पक्ष में ही आएगा।

न्यास अध्यक्ष ने कहा कि पहले शिलापूजन के बाद गुलामी का ढांचा ढह गया था और अब दूसरे शिला पूजन से निर्माण का मार्ग प्रशस्त होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार को समय देते हुए कहा कि केन्द्र सरकार के पास बहुत से कार्य हैं लेकिन वह हिन्दू जन भावना के विपरीत नहीं है।

उन्होंने मंदिर निर्माण के लिए कोई तिथि घोषित करने से इनकार करते हुए कहा कि यह ईश्वर की इच्छा पर निर्भर है। उधर विहिप मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने बताया कि एक लाख घनफुट पत्थरों से प्रस्तावित माडल के प्रथम तल का निर्माण पूरा हो गया है। अभी 75 हजार घनफुट पत्थरों की और आवश्यकता है जिन्हें यहां लाया जाना है।

फॉर्म 32 के द्वारा लाए जा रहे पत्थरों को ट्रकों से लाया जा रहा है जिसमें थोड़ा समय लगेगा। इस बीच शिला पूजन में महंत रामअवतार दास, अन्नूभाई सोमपुरा, प्रकाश गुप्त, रमेश दास, प्रेमनाथ मांझी, दुर्गेश पाण्डेय, रमाकांत विश्वकर्मा, ब्रजभूषण पाण्डेय, प्रेम यादव, टिन्नू यादव, हीरालाल, हनुमान प्रसाद व अन्य प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

उप्र में तापमान में गिरावट से ठंड बढ़ने के आसार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सहित राज्य के अधिकांश जिलों में मंगलवार सुबह तापमान में गिरावट दर्ज की गयी। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटों के दौरान तापमान में और गिरावट आने और ठंड बढ़ने के आसार हैं।
उप्र मौसम विभाग के अनुसार दिन में मौसम पूरी तरह से साफ रहेगा और धूप निकलेगी। न्यूनतम तापमान में दो डिग्री सेल्सियस तक की कमी दर्ज की गयी। आने वाले दिनों में तापमान में और अधिक गिरावट होने की सम्भावना है।
मौसम विभाग के अनुसार लखनऊ का न्यूनतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि अधिकतम तापमान 32 डिग्री सेल्सियस तक दर्ज किये जाने की सम्भावना है।
लखनऊ के अलावा मंगलवार को वाराणसी का न्यूनतम तापमान 22 डिग्री, कानपुर का 23.2 डिग्री, गोरखपुर का 24.3 डिग्री, झांसी का 22 डिग्री और इलाहाबाद का 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

लगातार दुसरे दिन अन्नपूर्णेश्वरी के दरबार में श्रद्धालुओ का रेला, खजाना पाने के लिए धक्कामुक्की

वाराणसी । लगातार दुसरे दिन नरक चर्तुदर्शी छोटी दिपावली पर मंगलवार को भी मां अन्नपूर्णा के दरबार में भोर से लेकर देर शाम तक हजारो श्रद्धालु की भीड़ दर्शन पूजन में जुटी रही। इसमें ज्यादातर कर्नाटक और दक्षिण भारत के अन्य प्रान्त से आये थे। भोर से ही श्रद्धालु बांसफाटक गोदौलिया डेड़सी के पुल और चैक क्षेत्र में बने बैरकेटिंग में कतार बद्ध हो गये। इस दौरान पालनहारिणी स्वर्णमयी अन्नपूर्णा के दर्शन और उनके अन्न-धन का खजाना पाने का भाव लम्बी लाइन में लगे श्रद्धालुओ के थकान पर भारी पड़ रहा था। मां की झांकी निहारने और खजाना पाने के लिए आज भी विश्वनाथ मंदिर के रेड जोन की कई गलियां जाम रही। कतार में लगे भक्त थक कर कहीं बैठे नजर आए तो कहीं धक्कामुक्की होती रही। स्वर्णमयी अन्नपूर्णा का पट वर्ष में एक बार सिर्फ धनतेरस पर ही चार दिन के लिए खोला जाता है।
इसके पूर्व शोडशोपचार विधि से नोटों की गड्डियां, हीरे, मोती, स्वर्णाभूषणों और मुद्राओं सहित फल-फूल सजाकर मां की पूजा की गई। महंत रामेश्वरपुरी, उप महंत शंकरपुरी की मौजूदगी में पं. सत्यनारायण मिश्र ने पूजा कराई। फिर महाआरती के बाद सुबह पांच बजे भक्तों के लिए पट खोल दिया गया। मां अन्नपूर्णा के बायीं तरफ कटोरा फैलाए भगवान शिव। एक तरफ महालक्ष्मी और दूसरी ओर मां (पृथ्वी) के स्वरूप की झांकी मन मोहती रही।

अयोध्या के हनुमानगढ़ी पर लगा भक्तों का तांता

अयोध्या/लखनऊ । उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ और अयोध्या समेत सूबे के हनुमान मंदिरों में हनुमान जयंती पूरे धूम-धाम से मनाई जा रही है। रामनगरी अयोध्या में हनुमान जयंती का उल्लास चरम पर है।
रामनगरी हनुमानभक्ति में लीन हो चुकी है। अयोध्या के विभिन्न मंदिरों में हनुमान जयंती बड़े ही भक्तिभावपूर्वक मनायी जा रही है। श्रद्धालु भोर से ही जयकारा वीर बजरंगी का जयघोष कर दर्शन पूजन कर रहे हैं। वहीं अयोध्या की प्रधानपीठ हनुमानगढ़ी में दर्शन के लिए भक्तों का तांता लगा हुआ है। हनुमानगढ़ी में भारे आरती के बाद से ही भक्तों के आने का सिलसिला शुरू हुआ जो देखते-देखते भीड़ में बदल गया। सिद्धपीठ हनुमानगढ़ी मंदिर भव्य विद्युत सजावट से जगमगा रहा है। मंदिर में आने वाले श्रद्धालुओं को कोई दिक्कत न हो इस नाते प्रशासन ने चप्पे-चप्पे पर पुलिस की तैनाती की है।

मंदिर में दिन भर हनुमान जी का विशेष श्रृंगार जारी है। मनुष्य जीवन को कृतार्थ करने वाली सीताराम, सीताराम, सीताराम, जय सीताराम्य की मधुर, कर्णप्रिय ध्वनि से हनुमानगढ़ी का परिसर गुंजायमान हो रहा है। पूरी रामनगरी हनुमान जयंती के उल्लास में सराबोर है।
लखनऊ के हनुमान सेतु और अलीगंज स्थित हनुमान मंदिर और काशी के संकटमोचन हनुमान मंदिर में सुबह से भक्तों का रेला दर्शन पूजन करने के लिए पहुँच रहा है।

विभिन्न मंदिरों में धार्मिक आयोजनों का सिलसिला चलायमान है। विद्याकुंड स्थित वीरभगवान मंदिर में भी हनुमान जयंती का उल्लास चरम पर है, विभिन्न द्दार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया गया है। इस बार हनुमान जयंती पर दुर्लभ योग बन रहा है।

ज्योतिषाचार्य स्वामी हरिदयाल मिश्र के अनुसार इस बार हनुमान जयंती पर स्वाति नक्षत्र मेष लग्न एवं मंगलवार का दिन होने के कारण इस दिन हनुमत पूजन सर्वसिद्धप्रदायक साबित होगा। महाराज श्री ने बताया कि इस दिन मंगलवार का व्रत व हनुमान जी का विभिन्न उपादानों से पूजन सर्वाेत्तम फलदायी साबित होगा। ऐसा करने वाले को भगवान शनि की भी कृपा प्राप्त होगी ।